Breaking

Thursday

chorme ki secret jankari in hindi

chorme ki secret jankari


आज के समय में इटरनेट पर भी हैकर्स बढ रहे है। इटरनेट पर बडे बडे अकाउटस को हैक करने की कोशिस करते है। कोई हैकर्स हमारे कम्प्युटर या मोबाईल में घुस कर हमारी पर्सनल जानकारी को चुरा लेते है। कोई हैकर्स बडे बडे बैंक अकाउटस,वेबसाईट,पासवर्ड चुराने की कोशिस करते है। जिससे कभी कभी करोडो रूपयो का नुकसान उठाना पडता है। ये चोर हमारे कम्प्युटर या मोबाईल में वायरस,मालवेयर या अन्य तरीके से घुसते है और हमारी जानकारी को अपने हैकर्स तक पहुचाते है। ये हमारे ब्राउजर के जरीये हमारे बैकिंग,ईमेल आईडी या अन्य आईडी के पासवर्ड जान कर हमे नुकासान पहुचाने की कोशिस करते है। 
chorme ki secret jankari in hindi
chorme ki secret jankari in hindi


हैकर्स ब्राउजर से हमे नुकसान पहुचाते है- 


जैसे कि कभी कभी हम अनजान व्यक्ति के पीसी या मोबाईल में अपनी कोई जैसे ईमेल आईडी ओपन करते या कोई अन्य आईडी ओपन करते है तो वह व्यक्ति हमारे पासवर्ड को सेव कर देता है। या हमारी हिस्ट्री  को पढ कर हमारे पर्सनल जानकारी को चुरा लेते है। जिससे हमे बाद में नुकसान  भी उठाना पड सकता है। 

इस पोस्ट में बताउगा कि हमे किसी अन्य व्यक्ति के कम्प्युटर या मोबाईल में यदि किसी कारणवस कोई आईडी लाॅग इन करनी पडे तो हमे किस तरह उनको सुरक्षित रखना है। और हमारे कम्पयुटर मे भी हैकर्स से कैसे बचना है।

गुगल क्राॅम की सिक्रेट सैटिग- 


हमे किसी अनजान व्यक्ति या दोस्त के कम्प्युटर या लेपटाॅप या मोबाईल में अपनी कोई आईडी जैसे कि बैकिग,ईमेल या कोई जिसे हमे नुकासान हो सके ऐसी आईडी को खोलने की जरूरत पडे तो हमे उसके पासवर्ड कभी भी सेव नही करना है ओर गुगल क्राॅम में ओपन करके कंट्रोल  और शिफ्ट के साथ एन ( ctrl + shift+ N) दबाना है जिससे क्राॅम का सिक्रेट विडोव ओपन हो जायेगा। इस विडोव का ही उपयोग हमे करना है। 

सिक्रेट विडोव की के लाथ -


इस विडौव में कभी भी हमारी आईडी के पासवर्ड सेव नही होगे। और इसकी एक खासियत है कि इसमें हमने जो काम किया है उसकी हिस्ट्री सेव नही होगी। जिससे हमारी जानकारी को नुकसान नही होगा। किसी भी अनजान कम्प्युटर या मोबाईल में भी कोई आईडी लाॅग इन करते हो तो कंट्रोल  और शिफ्ट  के साथ एन ( ctrl + shift+ N) दबाकर इस विडौव को जरूर ओपन कर ले उसके बाद ही अपना काम करना चाहिए। 

हैकर्स से कैसे बचे -


हमे अपने कम्प्युटर या किसी दुसरे के कम्पयुटर में कभी भी अपनी बैकिग,ईमेल या किसी अन्य आईडी के पासवर्ड को सेव नही करना है। हमे किसी भी वेबसाईट में अपनी पर्सनल जानकारी जैसे कि किसी आईडी पासवर्ड या कोई जानकारी को नही बताना है। हमे अपने कम्प्युटर में एटी वायरस को रखना जरूरी है। अपनी  पर्सनल आईडी पासवर्ड या कोई ओटीपी को किसी को भी नही शेयर करना है और नही ही किसी फेक वेबसाईट में इसका प्रयोग करना है।


मोबाईल में क्राॅम ब्राउजर में भी इसका उपयोग कर सकते है। जिस पीसी यया लेपटाॅप में एन्टी वायरस हो उसी मे अपना काम करना चाहिए। एक बहुत महत्वपूर्ण जानकारी है कि हमे अपने इटरनेट बैकिग,ईमेल आईडी,पेटीएम यो कोई भी आईडी के पासवर्ड को हर 15 दिनो में बदलते रहना चाहिए और इस पासवर्ड या ओटीपी को किसी के साथ शेयर नही करना चाहिए यदि कोई सरकारी कर्मचारी कहे तो भी नही बताना चाहिए।

मै आशा करता हु कि यह जानकारी आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

No comments:

Post a Comment